2022-06-28

जेल से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने सत्ता पक्ष की बढ़ाई टेंशन

पटना । करीब तीन दशकों तक बिहार की सत्ता को अपने हिसाब से चलाने वाले राजद प्रमुख लालू प्रसाद की लाचारी को चुनावी आईने में देखा जा सकता है। किंतु लालू अपनी मजबूरियों से फायदा उठाने के पुराने खिलाड़ी माने जाते हैं।

लालू यादव जेल में रहकर भी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं। रोज ट्वीट के जरिए समर्थकों से बात और विरोधियों पर वार कर रहे हैं। आखिरी दौर में ज्यादा ही सक्रिय हो गए हैं, जिससे राजग के रणनीतिकारों की परेशानियों में इजाफा से इन्कार नहीं किया जा सकता।

महागठबंधन की राजनीति अभी सोशल मीडिया के सहारे चल रही है। जेल अस्पताल से लालू ही नहीं, बल्कि बाहर रहते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और विधायक तेज प्रताप भी अपनी बात आम आदमी तक पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया का जमकर सहारा ले रहे हैं। जरूरत पडऩे पर खत भी लिख रहे हैं।

इसके पहले उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी निर्वाचन आयोग से जेल में रहते हुए लालू के ट्वीट करने की शिकायत की थी। मोदी ने लालू पर सोशल मीडिया के जरिए चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगाया था।

आयोग से पूछा था कि क्या किसी सजायाफ्ता कैदी को स्मार्टफोन, लैपटॉप और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधाएं दी जानी चाहिए। लालू से सप्ताह में सिर्फ एक दिन मुलाकात की अनुमति है तो प्रतिदिन उनके विचारों को ट्विटर हैंडल चलाने वाले व्यक्ति तक कौन पहुंचा रहा है।

निर्वाचन आयोग ने इसे कार्रवाई लायक मानने से इन्कार कर दिया था। अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार के मुताबिक कोई भी व्यक्ति अपने विश्वस्त के जरिए अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करा सकता है। जेल से भी संदेश बाहर भेजवा सकता है, बशर्ते कि आपत्तिजनक बातें नहीं हो। आचार संहिता के उल्लंघन के मामले पर जांच की जा सकती है।

कई बड़े नेताओं के ट्विटर हैंडल एवं फेसबुक संचालित करने की जिम्मेवारी प्रोफेशनल टीम संभालती है। जेल में रहने के कारण लालू सोशल मीडिया का ज्यादा फायदा उठा रहे हैं। मोबाइल पर सक्रिय करोड़ों वोटरों तक लालू का संदेश आसानी से पहुंच जा रहा है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights reserved jaihindustannews | Newsphere by AF themes.