2022-06-25

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज 3:30 बजे दिल्ली आएंगे, कुछ बड़े नेताओं से कर सकते हैं मुलाकात, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से आज मिल सकते हैं, राजनीति में कुछ बड़ा होने की संभावना

आज दिल्ली में जाएंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद में पहली बार दिल्ली का दौरा कर रहे हैं पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज दिल्ली में इस्तीफा होने के बाद में आज अमित शाह और जेपी नड्डा से मिल सकते हैं ऐसे में अभी देखना होगा कि आज शाम को किस प्रकार तैयार कांग्रेस बीजेपी के बीच में यह घटना क्रम में किस प्रकार से नया मोड़ लेता है यहां पर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन आज दिल्ली रवाना होंगे मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा होने के बाद में दिल्ली में आज पहला दौरा है और यहां पर अमरिंदर सिंह दोपहर में चंडीगढ़ से दिल्ली के लिए रवाना होंगे ऐसे में 18 सितंबर को पंजाब के मुख्यमंत्री के रूप से इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद में कांग्रेस ने पंजाब में नया मुखिया बना दिया है ऐसे में अभी पंजाब में साडे 5 महीने के लगभग है विधानसभा चुनाव होने में जिसको लेकर अब राजनीति नया मोड़ ले सकती है ऐसे में कैप्टन अमरिंदर सिंह के बारे में बताया जा रहा है कि बीजेपी में शामिल हो सकते हैं और यहां पर बीजेपी में शामिल होने के बाद में सीएम पद के उम्मीदवार के रूप में भी बीजेपी कैप्टन को मैदान में उतार सकती है क्योंकि कैप्टन अमरिंदर सिंह एक वरिष्ठ जाने-माने यहां पर राजनेता रहे हैं वहां पर कांग्रेस की तरफ से यहां पर जो पंजाब में जो कांग्रेस की सरकार थी और सबसे बड़ी बात यह कि एक पंजाबी सिख नेता भी है और यहां पर मजबूत नेता भी माने जाते हैं इनकी पकड़ भी है ऐसे में यहां पर आने वाली राजनीति को एक अच्छी गति दे सकते हैं

 

 

 

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज दिल्ली के लिए रवाना होने वाले हैं कुछ ही देर में और आज पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद पहली बार दिल्ली का दौरा कर रहे हैं और सूत्रों द्वारा बताया गया है कि आज केंद्र अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर सकते हैं और बीजेपी में शामिल भी हो सकते हैं और पंजाब में जो 5 महीने बाद में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं ऐसे में यहां पर बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरे के रूप में यहां पर राजनीति में एक नया मोड़ भी आ सकता है ऐसे में यहां पर आपको बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस के एक वरिष्ठ जाने-माने राजनेता रहे हैं और कांग्रेस के बड़े-बड़े दिग्गज नेताओं के साथ में यहां पर इनके गिनती होती है इनका अच्छी राजनीति में इनके पकड़ मजबूत है और कांग्रेस के बड़े वरिष्ठ नेताओं के साथ में यहां पर इनके अच्छे रिलेशनशिप भी है ऐसे में आपको बता दें कि आप पंजाब में दूसरी बार मुख्यमंत्री बने थे साडे 9 साल तक पंजाब के मुख्यमंत्री रहे हैं और अभी 5 महीने पहले ही इनका पंजाब में जो विधानसभा चुनाव है उनसे पहले इनका इस्तीफा हो गया है कांग्रेस आलाकमान में और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष पंजाब के नवजोत सिंह सिद्धू के बीच में इनके यहां पर विवाद हो रहा था
जिसके बीच में यहां पर राजनीति एक नई हलचल पैदा हो गई थी जिसके बाद में यहां पर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और नवजोत सिंह सिद्धू और जहां पर एक नई राजनीति की शुरुआत को लेकर यहां पर गलियारों में हलचल तेज होने के बाद में यहां पर आलाकमान और कैप्टन के बीच में कई दिनों से यहां पर लगातार हलचल चल रही थी जिसके बाद में यहां पर सोनिया गांधी को इन्होंने कई बार यहां पर अपनी राजनीति को लेकर कई बातें भी बताए थे जिसके बाद में 18 सितंबर को यहां मुख्यमंत्री पद से पंजाब में इस्तीफा दे दिया था और जिसके बाद में पंजाब में कांग्रेस ने दलित राजनीति कार्ड खेलते हुए यहां पर दलित विधायक को मुख्यमंत्री बनाया गया आगे के जो 5 महीने बाद विधानसभा चुनाव होंगे जहां पर आने वाले विधानसभा चुनाव की राजनीति को लेकर यहां पर एक नया इशारा करते हुए यहां के जो दलित वोट बैंक उसको अपनी तरफ करने के हिसाब से यहां राजनीति खेली गई है वहीं अगर कैप्टन बीजेपी में शामिल होते हैं तो बीजेपी को एक अच्छा जाना माना राजनीति का एक अनुभवी चेहरा मिल जाएगा जो पंजाब की नैया को पार लगा सकता है और बीजेपी की पंजाब में सरकार बन सकती है

 

पंजाब में पहले दलित मुख्यमंत्री बन चुके हैं चरणजीत सिंह चन्नी जी ने कांग्रेस द्वारा यहां बदलाव किया गया है दलित वोटों को अपनी तरफ से आने वाले 5 महीने बाद में जो विधानसभा चुनाव होंगे उनको देखते हुए नई रणनीति के तहत वही बीजेपी भी अगर कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में शामिल होते हैं तो यहां पर इनके ऊपर मुख्यमंत्री का नाम लगा कर जीने आगे कर सकती है पंजाब के नए मुख्यमंत्री ने छोटे घरों में मुफ्त पानी की आपूर्ति बिजली की दरों को कम और चुनावी राज्य में आम आदमी के लिए एक पारदर्शी सरकार का वादा करते हुए कार्यभार संभाला राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने राजभवन समारोह में दो उप मुख्यमंत्रियों को भी जहां पर शपथ दिलाई थी सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओपी सोनी को डिप्टी सीएम बनाया गया जिसमें कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी शामिल हुए थे ऐसे में पंजाब की राजनीति में एक नई राजनीति का इतिहास सामने आ सकता है और जल्द ही पंजाब किसके साथ एक नई करवट बदल सकती है वहीं पंजाब को लेकर जहां पर एक बदलाव हुआ है वही राजस्थान की राजनीति में भी कयास लगाए जा रहे हैं कि यहां पर गहलोत की जगह पायलट को मुख्यमंत्री बना सकते हैं ऐसी भी कई खबरें सामने आ रही है लेकिन इस मामले में अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता ऐसा बताया जा रहा है कि पंजाब को देखते हुए राजस्थान में भी आगामी 2 साल बाद में विधानसभा चुनाव होंगे और सरकार के 3 साल होने वाले हैं दिसंबर में ऐसे में अब यहां पर नवरात्रों में राजनीति एक नया मोड़ दे सकती है और जहां पर विधायक संगठन और यहां पर अलग-अलग मंत्रालय के विस्तार को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं बदलाव हो सकता है

Spread the love
Copyright © All rights reserved jaihindustannews | Newsphere by AF themes.