2022-06-25

राज्य की प्रति व्यक्ति आय और सकल घरेलू उत्पाद

Arthik Samiksha: आर्थिक समीक्षा किसी भी देश व राज्य की अर्थव्यवस्था की प्रकृति का चित्रण प्रस्तुत करती है। केंद्र स्तर पर आर्थिक समीक्षा प्रतिवर्ष वित्त मंत्रालय द्वारा प्रकाशित की जाती है। जबकि राज्य स्तर पर आर्थिक समीक्षा आर्थिक एवं सांख्यिकी निदेशालय द्वारा प्रकाशित की जाती है।

राज्य का सकल घरेलू उत्पाद जीएसडीपी एक वित्तीय वर्ष में राज्य की भौगोलिक सीमा में उत्पादित वस्तु एवं सेवाओं का अंतिम मूल्य उस राज्य का सकल घरेलू उत्पाद होता है। वर्ष 2018 में राज्य का जीएसडीपी स्तर मूल्यों पर 2011 12 के अनुसार 641940 करोड़ रुपए का है। जो 7.16% वृद्धि दर को दर्शाता है। जबकि चालू मूल्य पर ₹840263 करोड़ है जो 10.67% को दर्शाता है। किसी भी राज्य की आर्थिक वृद्धि उस राज्य के सकल घरेलू उत्पाद जीएसडीपी पर निर्भर करती है।

राज्य की प्रति व्यक्ति आय एक वित्तीय वर्ष में राज्य की कुल आय में उस वर्ष की औसत जनसंख्या का भाग लगा दिया जाता है। तो वह राज्य की प्रति व्यक्ति आय कहलाती है। वर्ष 2017-18 में चालू मूल्य पर राज्य की प्रति व्यक्ति आय ₹100551 है जो 9.21% वृद्धि दर को दर्शाती है जबकि स्तर मूल्यों पर राज्य की प्रति व्यक्ति आय वार्षिक रूप में ₹76146 जो 5. 65% वृद्धि दर को दर्शाती है किसी भी राज्य का आर्थिक विकास उस राज्य की प्रति व्यक्ति आय पर निर्भर करता है

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved jaihindustannews | Newsphere by AF themes.