2022-06-29

श्रीलंका: 4000 बौद्ध महिलाओं की मुस्लिम डॉक्टर ने कर दी नसबंदी, बढ़ा सांप्रदायिक तनाव

नई दिल्ली। लंका के एक मीडिया रिपोर्ट छपने के बाद से सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया है अपने कट्टर राष्ट्रवाद के लिए प्रसिद्ध श्रीलंकाई अखबार दिवाइना ने अपने पहले पेज पर छपी एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें दावा किया गया था कि एक मुस्लिम डॉक्टर ने सीजेरियन डिलीवरी के बाद करीब 4000 सिंहल बौद्ध महिलाओं की गोपनीय तरीके से नसबंदी कर दी

इस रिपोर्ट में डॉक्टर की पहचान नहीं की गई थी. इस रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टर ईस्टर रविवार को हुए आतंकी हमले के जिम्मेदार स्थानीय इस्लामिक संगठन नैशनल तौहीद जमात का सदस्य हैरॉयटर्स एजेंसी ने इस मामले पर विस्तृत रिपोर्ट छापी है लेकिन एजेंसी को अभी तक इस दावे के किसी तीसरे पक्ष से सबूत हासिल नहीं हुए हैं

श्रीलंका में मुस्लिमों के घरों, दुकानों और मस्जिदों को भीड़ द्वारा जलाने की घटना के एक सप्ताह बाद ही यह रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी श्रीलंका में ईस्टर रविवार को हुए आतंकी हमले के बाद मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा बढ़ गई है

अखबार के संपादक अनुरा सोलोमन्स ने रॉयटर्स को बताया कि उनकी रिपोर्ट पुलिस और अस्पताल के सूत्रों पर आधारित है लेकिन डॉक्टर की पहचान नहीं की जा सकी हैएक मुस्लिम डॉक्टर पर बौद्ध महिलाओं की जबरन नसबंदी करने का आरोप बौद्ध बहुल देश में दंगे भड़काने वाला साबित हो सकता है बौद्ध अक्सर मुस्लिमों पर उच्च जन्म दर से देश में प्रभाव बढ़ाने की कोशिश करने का आरोप लगाते हैं

इस रिपोर्ट के छपने के दो दिन बाद डॉक्टर सेगु शिहाबदीन मोहम्मद शफी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है पुलिस ने कहा है कि उस पर संदिग्ध स्रोतों से आए धन से संपत्ति खरीदने का आरोप है पुलिस नसबंदी वाले आरोप की भी जांच कर रही है और किसी पीड़ित महिला की तरफ से गवाही देने का इंतजार कर रही है

पुलिस प्रवक्ता रुवुन गणेसेकरा ने रॉयटर्स को बताया कि शफी मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत आरोपी बनाया गया है लेकिन उन्होंने नसबंदी के दावे से जुड़ी जानकारी देने से इनकार कर दिया

शफी बौद्धों के केंद्र कुरेनगला में विख्यात फिजीशियन हैं. इस इलाके में सेना के जवानों की भारी तैनाती रहती है और यह पूर्व राष्ट्रपति और राष्ट्रवादी महिंद्रा राजपक्षे की संसदीय सीट भी रही है इस मामले ने इलाके में सांप्रदायिक तनाव बढ़ा दिया है बहुसंख्यक सिंहल बौद्ध समुदाय के भिक्षु कुरेनगला टीचिंग हॉस्पिटल के सामने विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं जहां शफी काम करते हैं

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights reserved jaihindustannews | Newsphere by AF themes.