2022-06-28

मनी लॉन्ड्रिंग केस : रॉबर्ट वाड्रा से 6 घंटे की पूछताछ

नई दिल्ली। लंदन में बेनामी प्रापर्टी के मामले में रॉबर्ट वाड्रा पर जांच एजेंसियों का शिकंजा कसता जा रहा है। अदालत के निर्देश के बाद वाड्रा बुधवार को ईडी के सामने पूछताछ के लिए पेश हुए। जांच एजेंसी ने उनसे करीब छह घंटे पूछताछ की। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी खुद वाड्रा को छोड़ने ईडी दफ्तर तक आई, लेकिन बाहर से वापस चली गई। वहीं वाड्रा अपने वकीलों के साथ ईडी के दफ्तर में पहुंचे। बीकानेर जमीन घोटाले में भी उनको 12 फरवरी को पूछताछ के लिए ईडी के सामने पेश होना है।

ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जिस तरह रॉबर्ट वाड्रा सवालों का सही-सही जवाब देने से कन्नी काट रहे हैं, उसके बाद अदालत से उनसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने की इजाजत मांगी जा सकती है। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि रॉबर्ट वाड्रा से मुख्यतौर पर लंदन स्थित बेनामी संपत्तियों के बारे में पूछताछ की जा रही है।

संजय भंडारी के खिलाफ विदेश में छिपाए गए काले धन की जांच के दौरान आयकर विभाग को वाड्रा की इन संपत्तियों का पता चला था। शुरुआती पूछताछ में संजय भंडारी ने लंदन की एक प्रापर्टी के वाड्रा से संबंधित होने की बात स्वीकार की थी। लेकिन उसके बाद संजय भंडारी देश से फरार हो गया है, लेकिन आयकर से मिले दस्तावेजों के आधार पर ईडी ने मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून के तहत इसकी जांच शुरू की थी।

ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वाड्रा की लंदन में एक दर्जन से अधिक बेनामी संपत्ति होने के सुबूत मिले हैं। इनके बारे में उनसे सवाल पूछे जा रहे हैं। इनमें एक प्रॉपर्टी लंदन स्थित 12 ब्रायंस्टन स्कवायर है। 2010 में लंदन स्थित सुमित चड्ढा ने वाड्रा को मेल कर संपत्ति के नए सिरे से मरम्मत किए जाने की जरूरत बताई।

सबसे खास बात यह है कि 2010 में यह संपत्ति संजय भंडारी के नाम थी। सुमित चड्ढा और वाड्रा के बीच ईमेल पर हर बातचीत की कॉपी संजय भंडारी को भी भेजी जा रही थी। वहां से वह आयकर विभाग के हत्थे चढ़ गई। बताया जाता है कि बाद में इस संपत्ति को दुबई में रहने वाले शिशिर थम्पी को बेच दी गई थी। वाड्रा से इन सारे बिंदुओं पर सवाल पूछे गए। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि संजय भंडारी, सुमित चड्ढा और शिशिर थम्पी तो विदेश में है, लेकिन मनोज अरोड़ा से कई दौर की पूछताछ की जा चुकी है।

हालांकि, वह यह नहीं बता पा रहे हैं कि जिस ईमेल का वे खुद लगातार इस्तेमाल कर रहे थे, उससे किए गए मेल के बारे में उन्हें कैसे जानकारी नहीं है। ईडी के नियमों के मुताबिक वाड्रा को खुद ही ईडी का सवाल भी लिखना पड़ा रहा है और उसका जवाब भी।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने राबर्ट वाड्रा को पूछताछ के लिए बुलाने के ईडी के कदम को राजनीतिक मंशा से की गई कार्रवाई ठहराया है। ईडी की कार्रवाई में अपने पति राबर्ट के साथ मजबूती से खड़े होने का साफ संदेश देते हुए प्रियंका ने लोकसभा चुनाव की ओर इशारा करते हुए कहा कि पूरी दुनिया को मालूम है कि यह क्यों किया जा रहा है।

प्रियंका खुद अपनी गाड़ी में राबर्ट के साथ उन्हें ईडी के जामनगर हाउस दफ्तर छोड़ने गई। पार्टी मुख्यालय में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि सबको मालूम है कि यह क्यों किया जा रहा है। प्रियंका ने कहा, ‘वे मेरे पति हैं, मेरा परिवार है और मैं अपने परिवार के साथ खड़ी हूं।

साल 2009 में एक पेट्रोलियम सौदे में वाड्रा की अहम भूमिका बताई जा रही है। इसकी जांच की जा रही है। वहीं, एजेंसी को यह भी सूचना मिली है कि लंदन में कई प्रॉपर्टी रॉबर्ट वाड्रा से संबंधित हैं। इनमें दो घर और छह फ्लैट शामिल हैं। ईडी चाहती है कि वाड्रा आएं और अपनी प्रॉपर्टी के बारे में जानकारी दें।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights reserved jaihindustannews | Newsphere by AF themes.